अंतागढ टेपकांड- फिरोज सिद्दीकी ने कहां 2015 मे जिस वीडियो को हाईकोर्ट मे सर्टीफाइड किया उसे फर्जी बताया जा रहा, आरोपियो के घर की तलाशी के बजाये गवाह की तलाशी आश्चर्य’’

रायपुर– प्रदेश की राजनिति मे भूचाल मचाने वाले अंतागढ टेपकांड मे नया मोड आ गया है। फिरोज सिद्दीकी द्धारा जारी की गई वीडियो को लैब ने जांच करने से मना कर दिया है, जिसके बाद एक बार फिर प्रदेश की राजनिति गरमा गई है। फिरोज सिद्दीकी द्धारा अंतागढ उपचुनाव को लेकर टेपजारी किया था जिसमे कथित तौर पर अजीत जोगी, मंतुराम पवार, रमन सिंह के दामाद पुनित गुप्ता और पुर्व मंत्री राजेश मूणत की आवाज का दावा किया गया था। सत्ता मे आने बाद कांग्रेस ने अंतागढ प्रकरण की जांच का ऐलान कर कमेटी बनाया।

पुलिस ने 16 मार्च 2019 को फिरोज सिद्दीकी का नोटिस जारी कर अंतागढ टेपकांड मे प्रयुक्त वाईस रिकार्डर और अन्य उपकरण जिससे वीडियो बनाया गया था उपलब्ध कराने कहा पर फिरोज ने वीडियो और पेन ड्राइव पुलिस को दिया है। महिने भर बाद भी उपकरण उपलब्ध नही कराने पर पुलिस अब कानुनी कार्यवाही करेगी। एसएसपी आरिफ शेख ने The Indipendent से कहां कि

‘‘ फिरोज सिद्दीकी द्धारा जारी वीडियो को चंडीगढ के फाॅरेंिसंक लैब भेजा गया था पर वह नकली निकला जिससे लैब ने जांच से मना कर दिया है। हमने महिना भर फिरोज सिद्दीकी से वाईस रिकार्डर और उपकरण देने नोटिस जारी किया था पर अब तक उपकरण उपलब्ध नही कराया है तो अब कानुनी कार्यवाही की जायेगी।’’


वही इस पर फिरोज सिद्दीकी ने कहां कि

‘‘पुलिस आरोपियो को बचाने के लिये मामले को ऐसा कर रही है ताकि उन्हे जमानत मिल सके। पुलिस ने धारा 164 के अंतर्गत मेरा बयान भी दर्ज नही किया है। वर्ष 2015 मे इसी वीडियो को कांग्रेस द्धारा जांच कराने पर सही पाया गया था इसे हाईकोर्ट से सर्टीफाइड भी किया गया था। पुलिस द्धारा आरोपियो के घर की तलाशी के बजाये को गवाह के घर की तलाशी की बात करना बेहद आश्चर्य है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *